सालभर बाद हो रहा सूर्य का वृषभ में महागोचर,इन राशि के जातकों को मिलेगा तगड़ा लाभ

0
220

उज्जैन। ग्रहों के राजा सूर्य यूं तो हर महीने राशि परिवर्तन करते हैं। इस तरह प्रत्येक राशि का नंबर एक साल बाद आता है। आगामी 15 मई को वृषभ राशि की बारी है। इस राशि के स्वामी शुक्र हैं। जो धन,वैभव व ऐश्वर्य के कारक हैं।

सूर्य का वृषभ में महागोचर कुछ राशियों को विशेष लाभ प्रदान करता है। जाने कौन सी हैं वह राशि जिन्हें इस शुभ अवसर से तगड़ा लाभ हो सकता है। हर क्षेत्र में सफलता के साथ ही उन्हें आर्थिक लाभ भी होगा। आइए जानते हैं कि वे राशियां कौन सी हैं।

यह भी पढ़ें: शनि जयंती,वट सावित्री व्रत 19 को: शनिदेव काआशीर्वाद पाने अपनाएं ये उपायClick here

कर्क राशि
सूर्य के गोचर से कर्क राशि वालों को जमकर लाभ होने वाला है। नौकरी में प्रमोशन और सैलरी में बढ़ोतरी मिलने के प्रबल योग बनेंगे। विरोधी परास्त होंगे। इस राशि के लोगों पर सूर्यदेव की विशेष कृपा होगी। इन लोगों को व्यापार में खूब लाभ मिलने वाला है। आपके खास मित्र से आपको कोई बड़ा लाभ हो सकता है।

सिंह राशि
सिंह राशि के स्वामी सूर्य देव हैं। सूर्य की विशेष कृपा इस राशि वालों पर हमेशा बनी रहती हैं। सूर्य का गोचर सिंह राशि वालों को तरक्की के साथ-साथ मजबूती देगा। समाज में मान-सम्मान बढ़ेगा। इन जातकों के जीवन में खुशियां आएंगी। जीवनसाथी के साथ संबंध मधुर होंगे। आपकी पर्सनालिटी का आकर्षण बढ़ेगा।

कन्या राशि
कन्या राशि वालों को सूर्य का गोचर पद-प्रतिष्ठा और मान-सम्मान देने वाला है। नौकरी में प्रमोशन और ट्रांसफर के योग बन रहे हैं। उच्च शिक्षा पाने का मौका मिलेगा। किसी खास मित्र का आगमन हो सकता है। इन जातकों के जीवन में खुशियां आएंगी। नौकरीपेशा लोगों को नए अवसर प्राप्त होंगे। आपका व्यक्तित्व प्रभावी रहेगा।

कुंभ राशि
सूर्य का गोचर कुंभ राशि वालों को आर्थिक रूप से काफी फायदा करने वाला है। प्राइवेट नौकरी करने वालों को विशेष लाभ मिलने वाला है। आय में वृद्धि हो सकती है। कोई नया काम या व्यापार शुरू कर सकते हैं। धन लाभ हो सकता है। इन जातकों को हर क्षेत्र में सफलता मिलेगी। परिवार का ख्याल रखें।

यह भी पढ़ें: शनि जयंती,वट सावित्री व्रत 19 को: शनिदेव काआशीर्वाद पाने अपनाएं ये उपायClick here

डिसक्लेमर: ‘इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here