Chia seeds: चिया बीज मोटापा करे कम,बढ़ाए चेहरे का नूर,बनाएं इसे आहार का हिस्सा

0
303

भोपाल। चिया, किनोवा व काले गेहूं विभिन्न औषधियों व रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में कारगर हैं। तीनों की ही फसल होती है। फिलहाल हम यहां चिया जिसे कुछ लोग सबजा व शिया भी कहते हैं। यह एक महत्वपूर्ण औषधि है। इसलिए इसे अपने आहार का हिस्सा बनाना लाभदायक है। खर्च भी बमुश्किल एक रुपए रोज और कोई साइड इफेक्ट भी नहीं। बस,खाने में किफायत बरतें यानी दिन में अधिकतम 10 या 20 ग्राम।

तिल की तरह होते हैं चिया बीज
चिया बीज काले तिल की तरह होते हैं।ये बीज तेज़ कत्थई रंग के और साइज में छोटे होते हैं। । चिया को बहुपयोगी औषधि कहा गया है। इसमें सर्वाधिक ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है। पोटेशियम, फाइबर, कार्बोहायड्रेट, प्रोटीन, जिंक, कॉपर, ओमेगा 6, वसा, सोडियम, फास्फोरस, जस्ता, तांबा, केल्शियम, मैगनीज आदि पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। चिया बीजों में शुगर नहीं होती है और ये ग्लूटेन (Gluten) से मुक्त होते हैं। इसमें एंटीस्पेटिक, एंटीफंगल और एंटी ऑक्सीडेंट भी होते हैं। इसके पौधे को साल्विया हिस्पानिका कहा जाता है। इसकी सर्वाधिक पैदावार अमेरिका में होती है। वहां मैक्सिकों का तो यह ड्राई फ्रूट है। भारत में कुछ लोगों ने इसकी फसल बोना शुरू किया है,लेकिन भारत में इस बीज का आयात मैक्सिको,ग्वाटेमाला,ऑस्ट्रेलिया आदि देशों से होता है। इसकी यहां कीमत करीब तीन सौ रुपए प्रति किग्रा है और यह आसानी से बाजार में मिल जाता है।

एक औंस अर्थात लगभग 28.35 ग्राम चिया बीज में होते हैं इतने पोषक तत्व
कैलोरी 138 ग्राम
प्रोटीन 4.7 ग्राम
वसा 8.7 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट 12.0 ग्राम
फाइबर 9.8 ग्राम

लेप लगाएं,चेहरा चमकाएं
चेहरे की त्वचा ग्लो करने के लिए महिलाएं ही नहीं पुरुष भी बहुत क्रीम,जेली यूज करते हैं। लेकिन चिया सीड्स का पेस्ट बनाकर इसे सिर्फ 15-20 मिनट के लिए चेहरे पर लगाने से चेहरा ग्लो कर सकता है।

चिया बीजों का सेवन हमारे अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करता है। इसकी वसा संरचना हृदय रोग, कैंसर और संक्रमण की स्थिति से संबंधित जोखिमों को कम करने मै मदद करती है| चिया के बीज में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं, इसलिए ये किसी भी तरह के खाने को आसानी से पचाने की क्षमता रख्ते है। यह आंतों की सूजन और कब्ज को ठीक करता है। दरअसल, चिया बीज शरीर में जिलेटिन जैसे पदार्थ बनाते हैं। यह प्रीबायोटिक्स बैक्टीरिया को आंत में बढ़ने में मदद कर पाचन स्वास्थ्य में सुधार करता है। हर 100 ग्राम चिया सीड्स में 40 ग्राम के डायटरी फाइबर होते हैं जो स्वस्थ भोजन के पाचन को सहारा देने के लिए पर्याप्त है। कहा भी गया कि पेट ठीक तो सब कुछ ठीक।
तनाव और उच्च रक्तचाप को करता कम
चिया बीज मैग्नीशियम का एक बड़ा स्रोत है। जो शरीर में कोर्टिसोल के स्तर को कम करने में मदद करता पाया गया है। कोर्टिसोल एक हार्मोन है जो तनाव और उच्च रक्तचाप पैदा करने से जुड़ा है। इस प्रकार, चिया के बीज कोर्टिसोल को कम करते हैं और इस प्रकार तनाव और उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद करते हैं।
दूर करे थकान
चिया के बीज में ओमेगा-3 फैटी एसिडभरपूर मात्रा में होता है। इसलिए इसके इस्तेमाल के बाद इंसान चुस्त.दुरुस्त रहता है। इसमें मौजूद मिनरल्स और विटामिन्स हमे काम करने की शक्ति प्रदान करते हैं। चिया सीड्स का सेवन करने से वर्कआउट में सुधार होता है। यह भोजन में सभी अवांछित चीनी को साफ कर सकता है।

https://youtube.com/shorts/04keiFsidXE?feature=share

घटा सकते हैं वजन

चिया सीड्स शरीर को ताकतवर बनाने के साथ ही फैट का खत्म कर वजन घटाने में भी सहायक है। दरअसल,चिया बीज में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो पेट और आंतो में जमा चर्बी को पिघला या जला देते है।इससे वज़न भी नहीं बढ़ता और ज्यादा भूख भी नहीं लगती। ये बीज कैलोरी में कम और हाई -डेंसिटी लेपोप्रोटीन (HDL) में उच्च होते हैं। एचडीएल रक्त से कोलेस्ट्रॉल को अवशोषित करता है व इसे वापस यकृत में ले जाता है। इससे शरीर में चर्बी का जमा होना कम हो जाता है। चिया के इस गुण के कारण इसे भोजन में वजन प्रबंधन के लिए जाना जाता है। कोलेस्ट्रॉल नियंत्रित रहने से हृदय रोग का खतरा भी नहीं रहता। इसमें विटामिन ए व फॉस्फोरस की मौजूदगी से यह दांतों को भी मजबूत व आकर्षक बनाता है। बीजों में मौजूद जिंक दांतों के आसपास के प्लाक को साफ़ और सही करने में मदद करता है । और इसी तरह यह टैटार के गठन को भी रोकता है। चिया सीड के आपके दांतों को कीटाणुओं और सांसों की दुर्गंध से भी दूर रखते हैं।

गठिया रोग से बचाव में भी मददगार
चिया सीड्स में भरपूर मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है जो एक बेहतरीन एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट है। अल्फा-लिनोलेनिक एसिड या एएलए ओमेगा-3 जोड़ों और धमनियों में सूजन और दर्द को कम करता है। अध्ययनों से पता चलता है कि एक दिन में 4 ग्राम चिया बीज गठिया को नियंत्रित और रोक सकते हैं। चिया सीड्स में कैल्शियम, मैग्नीशियम और फॉस्फोरस बोन मिनरल डेंसिटी को बनाए रखने में मदद करते हैं। इसका मान आपकी हड्डियों की मजबूती को दर्शाता है। इस प्रकार, यह हड्डियों को मजबूत करने में मदद करता है।

गर्भावस्था के दौरान करता मदद
यह गर्भवती महिलाओं के लिए सर्वोत्तम आहार पूरक के रूप में कार्य करता है। गर्भवती महिलाओं को थकान, रक्त शर्करा में वृद्धि और विटामिन और खनिज की कमी जैसी विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं का अनुभव हो सकता है। चूंकि चिया के बीज में अधिक विटामिन, खनिज और सूक्ष्म पोषक तत्व होते हैं, इसलिए प्रत्येक दिन थोड़ी मात्रा में लेने से मैग्नीशियम, फास्फोरस और कैल्शियम की कमी का इलाज करने में मदद मिलती है। चिया ऊर्जा के स्तर को भी बढ़ाता है और कार्ब्स और शुगर रूपांतरण की प्रक्रिया को धीमा करता है। ओमेगा -3 फैटी एसिड की उपस्थिति भ्रूण में मस्तिष्क के विकास में सुधार करती है। सबसे बढ़कर, इसकी समृद्ध फाइबर सामग्री गर्भवती महिलाओं को स्वतंत्र रूप से शौच करने में मदद करती है।

मधुमेह के प्रबंधन में भी सहायक
डायबिटीज में सबसे बड़ी समस्या खाने के तुरंत बाद शर्करा के स्तर का अचानक बढ़ना है। चिया सीड्स में मौजूद स्टार्च और कार्ब्स अन्य भोजन की तुलना में धीरे-धीरे रक्तप्रवाह में छोड़े जाते हैं।यह क्रमिक रिलीज शरीर की कोशिकाओं को दिए गए समय में पोषक तत्वों को अवशोषित करने में मदद करता है। यह इस प्रकार रक्त शर्करा को नियंत्रित करने के लिए शरीर की इंसुलिन निर्भरता को कम करता है। इसलिए यह मधुमेह के रोगियों के लिए बेहद फायदेमंद है। एक शोध अध्ययन में यह पाया गया कि टाइप 2 मधुमेह के रोगियों द्वारा आठ सप्ताह तक चिया बीज के दैनिक सेवन से उनके उपवास ग्लूकोज स्तर, ट्राइग्लिसराइड स्तर और वीएलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार हुआ। यह प्लाज्मा इंसुलिन के स्तर को 20% तक कम कर देता है।इस प्रकार इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने में मदद करता है। यह टाइप 2 मधुमेह के विकास के जोखिम को कम करने में भी मदद करता है।
कैसे करें सेवन
1. चिया-नींबू डिटॉक्स ड्रिंक: यह वजन घटाने के लिए बेहद फायदेमंद है। एक बड़ा चम्मच चिया सीड्स लें और इसे पानी से भरी बोतल में भिगो दें। इसमें नींबू का पतला टुकड़ा डालें। डिटॉक्स ड्रिंक को एक घंटे तक रखें और फिर इसका सेवन करें। आप पूरे दिन में भी इसे थोड़ा.थोड़ा कर सिप कर सकते हैं।
2. चिया सलाद
अपने फल या सब्जी के सलाद पर चिया बीज छिड़कें। यह सलाद को फाइबर से भरपूर बनाता है और इस प्रकार आपको अपने रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मदद करता है।
3.ओटमील के साथ
ओटमील (दलिया) सबसे अच्छा मधुमेह के रोगियों का नाश्ता है। दलिया में थोड़ी मात्रा में चिया बीज छिड़कें और अपने रक्त शर्करा के स्तर को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करें।
4.चिया बीज का पानी
एक से डेढ़ छोटा चम्मच चिया सीड्स को पानी में मिलाकर दिन में एक बार पिएं। इससे कब्ज की समस्या कम हो जाएगी।
यह ध्यान रखें
1. चिया सीड्स को सूखा न लें। यह पानी को सोखते है। इससे आपको प्यास बहुत अधिक लग सकती है। पेयजल की उपलब्धता आवश्यक है।
2. सूखा व बहुत अधिक तो बिल्कुल भी सेवन न करें। वर्ना पानी नहीं मिलने पर दम भी यह आपको बेचैन कर सकता है। पूरे दिन के लिए 20 ग्राम या लगभग 1.5 बड़े चम्मच बीज पर्याप्त है।
3. चिया सीड्स का सेवन करने से पहले अपने डायटीशियन से सलाह जरूर लें। दरअसल,हर एक के शरीर की आवश्यकता अलग.अलग हो सकती है।
4.चिया के बीज को मरीज़ को किसी भी ऐसी चीज़ के साथ इस्तेमाल नहीं करना चाहिए जिससे
उसका ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाये। जैसे शक्कर,गुड़ या किसी मीठे पदार्थ के साथ।
5.चिया सीड्स के सेवन से कुछ लोगों में कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं, खासकर जब बड़ी मात्रा में सेवन किया जाता है या जब उन्हें परागकणों जैसी कुछ चीजों से एलर्जी होती है।
6. ज़रूरत से ज़्यादा फाइबर के सेवन से पेट में सूजन, उल्टी और दस्त हो सकते हैं। इसलिए सीमित मात्रा में अधिकतम 20 ग्राम ही सेवन करें।
7. कुछ लोगों को चिया सीड्स के सेवन के बाद सूजन, सिरदर्द और खुजली जैसी एलर्जी का अनुभव होता है। गंभीर एलर्जी प्रतिक्रियाएं एनाफिलेक्सिस का कारण बन सकती हैं।
8.मधुमेह रोगियों को चिया बीज का सेवन उचित मात्रा में करना चाहिए। उच्च फाइबर सामग्री के कारण अत्यधिक खपत रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकती है।
9.अधिक मात्रा में चिया बीजों के सेवन से मधुमेह और रक्तचाप के इलाज के लिए कुछ दवाओं के साथ परस्पर क्रिया हो सकती है। इसलिए चिया सीड्स का सेवन सही मात्रा में करना चाहिए।
कहने का तात्पर्य व सलाह
चिया के बीज पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। चिया बीज न केवल खनिज, ओमेगा -3 वसा, एंटीऑक्सिडेंट और फाइबर से भरपूर होते हैं, बल्कि तैयार करने और खाने में भी आसान होते हैं। ये बीज हमारे खानपान का हिस्सा हैं और वजन प्रबंधन योजना के प्रमुख तत्व हैं। ये बीज कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। चिया के बीज के इस्तेमाल से बहुत सारे फायदे लेकिन अधिक मात्रा में चिया के बीज लेने पर साइड इफेक्ट हो सकते है, खासकर डायबिटीज और रक्तचाप के रोगियों में। इसलिए, इसका सेवन आहार विशेषज्ञ की सलाह के अनुसार ही करना चाहिए। आहार विशेषज्ञ आपको बता देंगे के किया के बीज आपको किस मात्रा में इस्तेमाल करने हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here