Jogira Sara Ra Ra 2023: “जोगीरा सारा रा रा”,फुल मनोरंजन का तड़का ,12 मई को होगी रिलीज

0
255

Jogira Sara Ra Ra 2023: उत्तर प्रदेश के बुढाणा में जन्मे नवाजुद्दीन सिद्दीकी के शुरुआती दिन मुफलिसी में गुजरे। एक दौर ऐसा भी था जब नवाज के पास मुंबई में फ्लैट चार अन्य लोगों के साथ साझा करना पड़ता था। इसके भी किराए के पैसे न होने पर उन्हें अपने सीनियर का खाना पकाने की शर्त पर रहने की अनुमति मिली।

बहरहाल,यह गुजरे दिनों की बात है। नवाज अब प्रसिद्ध अभिनेता बन गए है।उनकी नई फिल्म “जोगीरा सारा रा रा” रिलीज होने से ही धमाल मचा रही है। मनोरंजन से भरपूर इस फिल्म का टीजर नवाज ने जारी किया। इसमें वह नेहा शर्मा के साथ नजर आ रहे हैं। नवाज ने सोशल मीडिया अकाउंट से इस फिल्म का पोस्टर शेयर करते हुए रिलीज डेट अनाउंस की है।

12 मई को रिलीज होगी ‘जोगीरा सारा रा रा’

नवाजुद्दीन सिद्दीकी और नेहा शर्मा की फिल्म ‘जोगीरा सारा रा रा’ का पोस्टर सामने आ गया है जो काफी दिलचस्प है। फिल्म के पोस्टर पर स्टारकास्ट नजर आ रही है जिसे देखकर अंदाज लगाया जा सकता है कि ये रोमांटिक कॉमेडी फिल्म होगी।

फिल्म ‘जोगीरा सारा रा रा’ 12 मई, 2023 को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। नवाजुद्दीन सिद्दीकी और नेहा शर्मा की फिल्म का पोस्टर देखकर फैंस काफी एक्साइटेड हैं और फिल्म की रिलीज डेट का इंतजार कर रहे हैं। वहीं, इस फिल्म का टीजर भी रिलीज किया गया है।

नवाज़ुद्दीन की अब तक की फिल्में

नवाज कई बॉलीवुड फ़िल्मों में काम कर चुके हैं।जैसे ब्लैक फ्राइडे (2004), न्यू यॉर्क (2009), पीपली लाइव (2009), कहानी (2010), मांझी: द माउंटेन मैन (2015), सेक्रेड गेम्स (2018), मंटो (2018), ठाकरे (2019),बजरंगी भाईजान आदि।

नवाजुद्दीन सिदद्की ने फ़िल्मों के अलावा वेब सिरीज जैसे सेक्रेड गेम्स से बेहद नाम कमाया है। नवाज ने अपने अभिनय की शुरुआत 1999 में आमिर खान की मुख्य भूमिका वाली फिल्म, सरफरोश से की थी।

इसके बाद ये राम गोपाल वर्मा की फिल्म शूल (1999), जंगल (2000) और राजकुमार हिरानी की मुन्ना भाई एमबीबीएस (2003) में भी नजर आए थे। मुंबई में आने के बाद इन्होंने टीवी धारावाहिकों में काम तलाशने की कोशिश की, पर कुछ खास सफलता नहीं मिली। इन्होंने एक छोटी फिल्म, द बायपास (2003) में इरफान खान के साथ काम किया था।

मु​फलिसी में गुजारे दिन
2002 से लेकर 2005 तक इनके पास ज़्यादातर समय कोई काम नहीं था। इन्हें रहने के लिए चार अन्य लोगों के साथ फ्लैट साझा करना पड़ता था। साल 2004 इनके लिए काफी दिक्कतों वाला था।

किराये के पैसे न दे पाने के कारण इन्हें अपने एनएसडी सीनियर से रहने की अनुमति मांगनी पड़ी। उन्होंने इस शर्त पर गोरेगांव के अपार्टमेंट में रहने की इजाजत दी कि वो उनके लिए भी खाना बनाएँ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here